Dard Pehle Se Hai Zyada Lyrics In Hindi

Dard Pehle Se Hai Zyada Lyrics In Hindi

Dard Pehle Se Hai Zyada Lyrics In Hindi (English) – Mohit Chauhan ने गाया गया है Sandeep Shrivastava ने “Dard Pehle Se Hai Zyada” के Lyrics लिखे हैं Pritam ने इस Song का Music दिया गया है.

Song Credits

Song Tune Jo Na Kaha

Singer Mohit Chauhan

Lyrics Sandeep Shrivastava

Music Pritam

Label YRF

Dard Pehle Se Hai Zyada Lyrics In Hindi



तूने जो ना कहा, मै वो सुनता रहा
खामखा बेवज़ह ख्वाब बुनता रहा
तूने जो ना कहा, मै वो सुनता रहा
खामखा बेवज़ह, ख्वाब बुनता रहा
जाने किसकी हमें, लग गई है नज़र
इस शहर में ना अपना, ठिकाना रहा
दूर चाहत से मै, अपनी चलता रहा
खामखा बेवज़ह, ख्वाब बुनता रहा

गर्व पहले से है ज्यादा, खुद से फिर यह किया वादा
खामोश नज़रें रहें बे जुबां

अब ना पहले सी बातें हैं, बोलो तो लब थरथराते हैं
राज़ यह दिल का, ना हो बयां
हो गया की असर, कोई हम पे नही
हमसफ़र में तो है, हम सफ़र है नही
दूर जाता रहा, पास आता रहा
खामखा बेवज़ह, ख्वाब बुनता रहा

आया वो नज़र फिर ऐसे, बात छिड़ने लगी फिर से
आँखों में चुभता कल का धुँआ

हाल तेरा ना हम सा है, इस ख़ुशी में क्यूँ ग़म सा है
बसने लगा क्यूँ, फिर वो जहाँ
वो जहाँ दूर जिससे, गये थे निकल
फिर से यादों ने कर दी है, जैसे पहल
लम्हा बीता हुवा, दिल दुखाता रहा
खामखा बेवज़ह ख्वाब बुनता रहा

तूने जो ना कहा , मै वो सुनता रहा
खामखा बेवज़ह, ख्वाब बुनता रहा
जाने किसकी हमें, लग गई है नज़र
इस शहर में ना, अपना ठिकाना रहा
दूर चाहत से मै, अपनी चलता रहा
बुझ गई आग थी, दाग जलता रहा

Dard Pehle Se Hai Zyada Lyrics In Hindi



Ummm Hmm Umm Hmm
Ummm Hmm Umm Hmm

Tune Jo Na Kaha
Mein Woh Sunta Raha
Khamakha Bewajah Khwaab Bunta Raha

Ummm Hmm Umm Hmm
Ummm Hmm Umm Hmm

Tune Jo Na Kaha
Mein Woh Sunta Raha
Khamakha Bewajah Khwaab Bunta Raha

Jaane Kiski Humein Lag Gayi Hai Nazar
Is Shehar Mein Na Apna Tikana Raha
Koi Chaht Se Na Ab Apni Chalta Raha

Khamakha Bewajah Khwaab Bunta Raha

Dard Phele Se Hai Jyaaada
Khud Se Phir Yeh Vaada
Khamosh Nazrein Rahein Bezubaan

Abb Na Pehli Si Baatein Hai
Bolo To Lab Thartharatein Hai
Raaz Yeh Dil Ka Na Ho Baiyan
Hoga Na Ab Asar Humpe Nahin
Hum Safar Mein To Hai Humsafar Hai Nahi

Door Jaata Raha Paas Aata Raha
Khamakha Bewajah Khwaab Bunta Raha

Aaya Woh Phir Nazar Aise
Baat Chidne Lagi Phir Se
Aankhon Mein Chubhta Kal Ka Dhuan

Haal Tera Na Humsa Hai
Is Khushi Mein Kyon Gumsa Hai
Basne Laga Kyon Phir Woh Jahan

Woh Jahan Dur Jis Se Gaye The Nikal
Phir Se Aankhon Mein Karti Hai Jaise Pehal

Lambha Beeta Hua ,dil Dukhata Raha

Khamakha Bewajah Khwaab Bunta Raha

Tune Jo Na Kaha
Mein Woh Sunta Raha
Khamakha Bewajah Khwaab Bunta Raha

Jaane Kiski Humein Lag Gayi Hai Nazar
Is Shehar Mein Na Apna Tikana Raha
Koi Chahat Se Abb Apni Chalta Raha

Bhujh Gai Aag Thi Daag Jalta Raha