Jazaak Allah Lyrics in Hindi – Javed Ali 2021 Eid

Jazaak Allah In Hindi – Javed Ali ने गाया गया है.Irfan Siddiqui ने Jazaak Allah Song Lyrics लिखे हैं.Salim Sulaiman ने इस Song का Music दिया गया है.This Song is Features ….. लेबल By Salim Sulaiman. Records.

Jazaak Allah Lyrics


Mushkil ke jo pal mein koi duaaon ka de sila,
Toh dil bole jazaak Allah
Kaisi bhi aziyat mein, humko rahein na koi gila,
Toh dil bole Jazakallah. Kaho dil se jazaakallah

Khushiyon ka koi zariya jo bane
Sehraaon mein jaise dariya woh bane
Allah humko zarf de aur de jazaa

Jazakallah. Khair rahe sab pe.
Jazakallah. Gair bane apne.
Niyat se hai juda. Rehmat ka raasta.

Jazakallah. Khair rahe sab pe.
Jazakallah. Gair bane apne.
Zehmat utha zara, Neki ka vaasta

Antra
Sajda karun tera oh rab ul allamin
Tu farmaega karam humko hai yakeen

Sajda karu tera o rab bul Aalamaaen
Kar de ga tu karam mujh ko hai yaqeen

Teri qudrat ya karim.
Teri azmat ya rahim.
Minnaton ko khwahiykon ko kar mukammal ya azim.

Jazakallah. Khair rahe sab pe.
Jazakallah. Gair bane apne.
Niyat se hai juda. Rehmat ka raasta.

Jazakallah. Khair rahe sab pe.
Jazakallah. Gair bane apne.
Zehmat utha zara, neki ka vaasta

Behte in ashqon ko,
koi to rokde lillah
Toh dil bole jazakallah.

Khushiyon ka koi zariya jo bane
Sehraaon mein jaise dariya woh bane
Allah humko zarf de aur de jazaa
Jazaak Allah.

Jazaak Allah Lyrics in Hindi Font


मुशकिल के जो पाल में कोई दुआओं का सिलसिला,
तोह दिल बोले जाजाक अल्लाह
केसी भी अज़ियत में, हमको ना जाने क्या मिला,
तोह दिल बोले जजाकल्लाह। कहो दिल से जजाकल्लाह

ख़ुशियाँ का कोई ज़ारिया जो बन जाए
सेहराऊँ में जइसे दरिया वो बन के
अल्लाह हमको ज़राफ़ दे और दे ज़ाज़ा

जजकल्लाह। खैर उठे सब पे।
जजकल्लाह। गयर बन अपन।
नियात से है जुदा। रहमत का रस्ता।

जजकल्लाह। खैर उठे सब पे।
जजकल्लाह। गयर बन अपन।
ज़हमत उत ज़रा, नेकी का वास्ता

अंतरा
सजदा करूं तेरा रब उल अल्लामिन
तू फरमागे करम हमको है याकेन

सजदा करु तेरा ओ रब बुल आलामाँ
कर दे गा तुझे कर मुज को है यकींन

तेरी कुदरत ये करीम
तेरी अज़मत ये रहीम।
मिननटन को खोहिआकोन को कर मुक्कम्मल या अज़ीम।

जजकल्लाह। खैर उठे सब पे।
जजकल्लाह। गयर बन अपन।
नियात से है जुदा। रहमत का रस्ता।

जजकल्लाह। खैर उठे सब पे।
जजकल्लाह। गयर बन अपन।
ज़हमत उह ज़रा, नेकी का वास्ता

अशोक को कोख में,
कोइ को रोके लिल्लाह
तोह दिल बोले जजाकल्लाह।

ख़ुशियाँ का कोई ज़ारिया जो बन जाए
सेहराऊँ में जइसे दरिया वो बन के
अल्लाह हमको ज़राफ़ दे और दे ज़ाज़ा
जजाक अल्लाह।